एक बहरी महिला

किसी धनी आदमी की एक युवती पत्नी थी, जो वज्र बधिर थी। एक दिन प्रातःकाल जब वे लोग नाश्ता कर …

Read more

गरुड़ और चकवा

एक ऊंचे पर्वत की चट्टान पर एक गरुड़ और चकवा की भेंट हुई। चकवा ने कहा, “नमस्कार, श्रीमान् ।” गरुड़ …

Read more

हृदय-रहस्य

एक भव्य भवन रात्रि की नीरवता के पंखों के साए में इस तरह स्थित था, मानो मृत्यु के खोल में …

Read more

इन्साफ

एक रात शाही महल में एक दावत हुई। इस मौके पर एक आदमी आया और अपने आपको शहजादे के सामने …

Read more

कवि की मृत्यु

रात्रि ने नगर पर अपने पंख फैला दिये और हिम ने उसे अपनी चादर में लपेट लिया। शीत के मारे …

Read more

खंडहरों के बीच

सूर्य नगर को चन्द्रमा ने एक सुरम्य झीनी चादर से ढंक दिया और सम्पूर्ण जीव-जगत में निस्तब्धता छा गई। भयावने …

Read more

खोज

एक हजार वर्ष पूर्व लेबेनान के ढाल पर दो दार्शनिक आ मिले। एक ने दूसरे से पूछा, “कहां जा रहे …

Read more

मुर्दाें के बीच

रात का भयानक सन्नाटा था। घने बादलों के गहरे आवरण के पीछे चांद और सितारे छिप गये थे और मैं …

Read more

नबी और बालक

एक दिन नबी शरीह को एक उद्यान में एक बालक मिला। बालक दौड़ा-दौड़ा उनके पास आया और बोला, “नमस्कार श्रीमान” …

Read more